ads-2

लम्हा

*जरूरी नही की*
       *हर समय जुबा पर*
     *भगवान का नाम आये*

       *वो लम्हा भी भक्ति*
        *का होता है, जब*
  *इंसान-इंसान के काम आये‼*.

Comments